Facts About Dreams In Hindi

Facts about dreams in hindi

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे सपनों से जुड़े हैरान कर देने वाले तथ्यों की सपने वो नहीं जो हम जागते हुए देखते हैं, हम उन सपनों की बात कर रहे हैं जो हमें सोते हुए दिखाई देते है सपने कैसे आते हैं क्यों आते हैं इनके बारे में कोई नही जानता लेकिन सपनों से जुड़ी हुई और भी कई बातें हैं जिनके बारे में कोई नहीं जानता तो आज हम उन बातों के बारे में जानेंगे जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे।


सोते वक्त आपको भी कई प्रकार के सपने आते होंगे और ज्यादातर हम उन सपनों को सुबह होते होते भूल जाते हैं और हमारे दिमाग  से वो निकल जाते हैं मगर कुछ सपने हमें याद भी रहते हैं और यह बहुत कम होता है आखिर ऐसा क्यों होता है यह जानने के के लिए आप इस आर्टिकल के साथ अंत तक जुड़े रहें और इसको पूरा पढ़ें।


सपनों से जुड़े intresting Facts In Hindi



मनुष्य अपने पूरे जीवन काल मे लगभग 6 साल सपने देखता है, मतलब पूरे जीवन के 6 साल हम सपने देखने में ही निकाल देते हैं।


हम हर रात लगभग 4 से 5 सपने देखते हैं जिनकी समय सीमा 4 मिंट से 45 मिंट तक कि हो सकती है, और ज्यादा लंबे सपने हम अक्सर सुबह के वक़्त ही देखते हैं। और हम पूरे जीवनकाल में एक लाख से अधिक सपने देखते हैं।


हम 90% अपने सपनों को सुबह होते ही भूल जाते हैं या ऐसे कह सकते हैं कि रात को देखे सपने हमारे दिमाग मे ही नहीं होते लेकिन दिमाग पर ज्यादा प्रभाव डालने पर हमें अपने सपनों के बारे में कुछ याद आने लगता है।


रात को देखे जाने वाले आपके ज्यादातर सपने आके कुछ दिनों की बातों के आधार पर औए आपके दिमाग में आने वाले विचारों के साथ जुड़ते होंगे।


हम अपने सपनों को उन चीजों को ही देखते हैं जिन्हें हम अपनी असली ज़िन्दगी में देख चुके होते हैं, कभी आपको लगे कि आपके सपने में आये शख्स को आप नहीं जानते तो ऐसा बिल्कुल नहीं होगा आप उसे जानते होंगे लेकिन भूल गए होंगे लेकिन आपका अवचेतन मन उस को नहीं भुला जिस वजह से आपके सपने में वो शख्स आया। ऐसा इस लिए भी है क्योंकि हमारा दिमाग खुद से किसी की शक्ल नहीं बना सकता उसने जो देखा होगा वो आपको सपनों में वही दिखाएगा।    


रंगीन सपने | Colorful dreaming fact 


वैज्ञानिकों के अनुसार 60 वर्ष की ज्यादा आयु के लोग ब्लैक एंड व्हाइट सपने देखते हैं जब कि युवाओं को रंगीन सपने आते हैं, यह माना जाता है कि आज से 20 साल पहले तक सभी को ब्लैक एंड व्हाइट सपने ही दिखाई देते थे लेकिन आज लोगों को रंगीन सपने दिखाई देते हैं इसकी वजह यह मानी जाती है कि जो हम दिन में देखते है उसका प्रभाव पड़ता है जैसे आज से कुछ साल पहले रंगीन टेलीविजन नहीं होते थे शायद इस लिए उस वक़्त लोगों को रंगीन सपने नहीं दिखाई देते थे।

 

आपको यह जान कर हैरानी होगी कि आपका दिमाग आपको कभी कभी वो सपने भी दिखा देता है जो आपके साथ आने वाले वक्त में होना होता है लेकिन उन सपनों को हम सुबह तक कभी याद नहीं रख पाते वो घटना जब हमारे सामने घटित होती है तब हमें यह याद आने लगता है कि हम इस घटना को देख चुके हैं यह हमारे साथ पहले भी हो सकता है। ऐसा होने के पीछे की वजह यह है कि हम आने वाले वक्त के बारे में कभी कभी सोचते हुए अपने दिमाग को वैसी स्थिति के बारे में बता देते हैं और हमारा दिमाग उस घटना को हमारे सपन में दिखा देता है।


डरावने सपने ज्यादातर छोटे बच्चों को दिखाई देते हैं और 10 साल की उम्र तक यह कम होने लगते हैं, इसकी वजह यह हो सकती है की बचपन मे हमें ऐसी चीजों से डर लगता है जिन्हें हमने कभी देखा ही नहीं होता लेकिन जैसे जैसे हम बढ़े होते हैं हमारे दिमाग से उन चीजों के बारे में डर निकल जाता है और हमें डरावने सपने आने भी बंद हो जाते है।


Read More: Facts About Snake In Hindi