दोस्तों हम लेकर आये हैं आपके लिए खामोशी शायरी, तेरी खामोशी पर आज हम लिखने वाले हैं खुदा करे तू यह शायरी पढ़कर हमारा दर्द समझ सके, दोस्तों आप अपनी गर्लफ्रैंड के रूठने पर अगर परेशान हैं और वो आपसे बात करना नहीं चाहती तो आप उसको यह शायरी भेज सकते हो। खामोशी शायरी को पढ़कर आपकी गर्लफ्रैंड आपका दर्द जरूर समझेंगी।


30+ New तेरी खामोशी शायरी | Khamoshi Shayari In Hindi

30+ New तेरी खामोशी शायरी | Khamoshi Shayari In Hindi

(1)


उनकी आँखों में भी खामोशी और नमीं थी

उनको भी महसूस हो रही मेरी कमी थी

उनके की आँखें ऐसे लग रही थी

जैसे वो भी रात भर मेरे इंतेज़ार में जागी थी


Unki aankhon mein bhi khamoshi aur nami thi

Unko bhi mehsoos ho rahi meri kami thi

Unki aankhen aise lagg rahi thi

Jaise woh bhi raat bhar mere intezaar mein jaagi thi 


(2)


तलाश मेरी में वो भटकता रहा

दिल मेरे में वो धड़कता रहा

चाहते तो दोनो थे एक दूसरे को

फिर भी ना जाने दिल क्यों ना मिले


Talaash meri mein vo bhatkta raha

dil mere mein vo dhadkata raha

chahte to dono the ek dusre ko

phir bhi na jaane dil kyon na mile


(3)


दिल मे अजीब सी बेचैनी आई है

आँखों मे पता नहीं कैसी खुमारी शाई है

मैंने जब रात को सोने के लिए आँखें बंद की

तो सामने सिर्फ तस्वीर तुम्हारी आयी है


dil me ajeeb si bechaini aayi hai

aankhon me pata nahi kaisi khumari chaai hai

maine jab raat ko sone ke liye aankhen band ki

to saamne sirf tasveer tumhari aayi hai


(4)


मैं करना नहीं चाहता लेकिन

मुझसे गलतियां होने लगती है

समझना चाहिए तुझे भी मेरा दर्द

मेरी आँखें तेरे लिए रोने लगती है


main karna nahi chahta lekin

mujhse galatiyan hone lagti hai

samajhana chahiye tujhe bhi mera dard

meri aankhien tere liye rone lagti hai


(5)


तुम कितनी दूर होकर भी

मेरे दिल के करीब हो इतना

के कैद कर लूं तुजे अपनी धड़कन में

दिल ने जान कह कर पुकारा है तुझे


tum kitni door hokar bhi

mere dil ke kareeb ho itna

ke qaid kar lu tujhe apni dhadkan mein

dil ne jaan keh kar pukara hai tujhe


(6)


अकेले रहने से मैं घबराता नहीं

बस तेरी फ़िकर करता हूँ

बस तुझे अकेला छोड़ नहीं सकता

मैं तो ज़िन्दगी में अकेला चल सकता हूँ


akele rehne se main ghabarata nahi

bas teri fikar karta hu

bas tujhe akela chhod nahi sakta

main to zindagi mein akela chal sakta hu


(7)


तेरे आगोश में खोकर मैं दुनिया घूम लेता हूँ

जब तुम मेरे सामने नहीं होते तो तस्वीर चुम लेता हूँ


tere aagosh mein khokar main duniya ghoom leta hoon

jab tum mere samne nahi hote to tasveer chum leta hoon


(8)


मुझे अपनाया भी तुमने था

अपना बनाया भी तुमने था

आखिर जब दिल भर गया तेरा

तो ठुकराया भी तुमने था


mujhe apanaaya bhi tumne tha

apna banaya bhi tumne tha

aakhir jab dil bhar gaya tera

to thukaraya bhi tumne tha


(9)


किस्मत ने मुझे बार बार आज़माया है

जो रहते थे इस दिल मैं उन्हें मुझसे चुराया है

मैंने हर किसी को अपना समझ दिल में बिठाया

और हर किसी ने मेरे इश्क़ का मज़ाक बनाया है


kismat ne mujhe baar baar azamaya hai

jo rehte the is dil main uehien mujhse churaaya hai

maine har kisi ko apna samajh dil mein bithaya

aur har kisi ne mere ishq ka mazaak banaya hai


(10)


मैं भगवान से पहले तुम्हारा नाम लेता था

मैं तेरे ख्यालों में हर वक़्त खोया रहता था


main bhagwan se pehle tumhara naam leta tha

main tere khyalon mein har waqt khoya rehta tha



खामोशी शायरी 2 लाइन


(11)


कुछ तो उसकी आँखों मे अलग बात थी

जो मेरे दिल से दूर रहकर भी करती बात थी

ऐसे ही कोई किसी का नहीं हो जाता

उसमें सबसे अलग कुछ बात थी


kuch to uski aankhon me alag baat thi

jo mere dil se door rehkar bhi karti baat thi

aise hi koi kisi ka nahi ho jaata

Usme sabse alag kuch baat thi


(12)


आगोश में तेरे खोकर हमने खुद को भुलाया है

जब होश में आये तो खुद को तन्हा पाया है


aagosh mein tere khokar humne khud ko bhulaaya hai

jab hosh mein aaye to khud ko tanha paaya hai


(13)


जो मेरी आँखें ना देख पाती थी

दुनिया उसके बारे में कुछ ऐसा बताती थी

मै मानता नहीं था किसी की बात

पर दुनिया उसे बेवफा सच्च बताती थी


jo meri aankhein na dekh paati thi

duniya uske baare mein kuch aisa bataati thi

mai manta nahi tha kisi ki baat

par duniya use bewafa sachh batati thi


(14)


मेरी हर बात का वो मज़ाक बनाती है

वो कभी छोड़ जाती है कभी लौट आती है

हमारे इश्क़ को समझ रखा है बाज़ार उसने

जब दिल करता है तो प्यार खरीदने लेने चली आती है


meri har baat ka vo mazak banati hai

vo kabhi chhod jaati hai kabhi laut aati hai

Humare ishq ko samajh rakha hai bazaar usne

jab dil karta hai to pyar khareede ne chali aati hai


(15)


तुम्हारी आँखों मे देख कर तुम्हें अपना बना लूँ

तुम्हारा हाथ चुम तेरे होंटो पर खुशी लौटा दूँ

मेरी बात तो सुन मेरे साथ बैठ कर

अपनी बातों से तेरे दिल मे इश्क़ जगा दूँ


Tumhari aankhon me dekh kar tumhein apna bana loon

Tumhara haath chum tere honton par khushi lauta doon

meri baat to sun mere saath baith kar

Apni baaton se tere dil me ishq jaga doon


(16)


हाल दिल का किसी को सुनाना मत

किस भी हाल में रहो किसी को बताना मत

यहाँ लोग दिल तोड़ देते हैं जानी

किसी से तुम दिल लगाना मत


haal dil ka kisi ko sunaana mat

kis bhi haal mein raho kisi ko bataana mat

Yaha log dil tod dete hain jaani

kisi se tum dil lagana mat


Read MoreCall Ka Intezaar Shayari